इरेक्टाइल डिसफंक्शन: नपुंसकता के | कारण | इलाज | दवाई

Table of Contents

इंट्रो

दोस्तों स्वागत है आपका इस आर्टिकल में। आज हम बात करेंगे इरेक्टाइल डिसफंक्शन के बारे में जिसे नपुंसकता भी कहा जाता है। इस आर्टिकल में आपको इससे जुड़ी सभ सवालों के उत्तर दिए जायेंगे। तो चलिए इस आर्टिकल की शुरू करते है।

नोट

इस आर्टिकल में बताइए गयी कोई भी दवाई लेने से पहले आप अपने नज़दीकी डॉक्टर से बात करे। क्योंकि हों सकता है की इन दवाईयों का आप पर कोई साइड इफेक्ट भी हो सकता है।

Q1. इरेक्टाइल डिसफंक्शन समस्या क्या है?

Ans. जब पुरष का लिंग ज्यादा समय तक खड़ा ना रह पाए या लिंग को खड़ा करने में दिक्कत तो यह नपुंसकता की निशानी है। लिंग को खड़ा रखने में लिंग में ब्लड फ्लो, मसल इन चीजों का महत्वपूर्ण काम होता है। जब आपके लिंग में ब्लड फ्लो ज्यादा लंबे समय तक ना हो सके। तब इसे इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहा जाता है।

Q2. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के क्या लक्षण होते है ?

Ans. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के लक्षण नीच दिय गए है।

  1. अगर आपका लिंग खड़ा नही हो रहा है।
  2. आप अपने लिंग को ज्यादा समय तक खड़ा नही कर पा रहे है।
  3. आपका अपने पार्टनर के साथ संबंध बनाने में ज्यादा रुचि नहीं है आगे से पहिले।

Q3. इरेक्टाइल डिसफंक्शन किस उम्र में शुरू होता है?

Ans. यह होने की कोई उम्र नहीं है। लकिन यह देखा गया है की इरेक्टाइल डिसफंक्शन बड़ी उम्र के पुरषो में पाया जाता है।

Q4. इरेक्टाइल डिसफंक्शन का मुख्य कारण क्या है?

Ans. इसके मुख्य दो कारन हो सकते है। आपको इरेक्टाइल डिसफंक्शन मानसिक या शारीरिक करनी से हो सकता है। जवान लडको में नपुंसकता के लिए मानसिक कारण हो सकता है। जबकि बड़ी उम्र में नपुंसकता का कारण शारीरिक हो सकता है।

Q5.इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने के मानसिक कारण क्या है ?

Ans. मानसिक कारण नीचे दिए गए है।

  1. अगर आप बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेते है। तब भी आपको यह हो सकता है।
  2. अपने पार्टनर के साथ अच्छे संबंध ना होना। आपस में प्यार ना होना।

Q6. इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने के शारीरिक कारण क्या है ?

Ans. शारीरिक कारण नीचे दिए गए है।

  1. दिल की बीमारी होना।
  2. ज्यादा ब्लड प्रेशर होना।
  3. बड़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल होना।
  4. सुग्गर लेवल का बड़ा होना।
  5. ज्यादा दारू पीना भी एक कारण है।
  6. ज्यादा मोटापा होना।
  7. धूम्रपान का सेवन करना।
  8. आपका लाइफ स्टाइल हेल्थी ना होना।

Q7. इरेक्टाइल डिसफंक्शन दवाईए लेने से भी होता है ?

Ans. अगर आप ब्लड प्रेशर, एसिडिटी, जुकाम, पेंकिलर अगर ऐसी दवाई लेते है। तो इससे भी इरेक्टाइल डिसफंक्शन का हो सकता है। अब यह भी जरूरी नहीं है की आपके शरीर में यह दवाई ही नपुंसकता का कारण होगी।

Q8. कैसे पता करे की इरेक्टाइल डिसफंक्शन मानसिक है ? या शारीरिक ?

Ans. अगर आपको सुबह या रात को इरेक्शन सही से होती है। तो इसका मतलब है की आपमें इसका कारण मानसिक ही है। और यह कुछ समय में ठीक भी हो जाएगा। लेकिन अगर यह लंबे समय तक रहे तो आप अपने नजदीकी साइकियाट से इसके बारे में बात करके अपनी इस चीज के बारे में बता सकते है। जिससे वह आपको काउंसिल कर पाए।

Q9. क्या इरेक्टाइल डिस्फंक्शन का इलाज संभव है?

Ans. इरेक्टाइल डिसफंक्शन कोई बीमारी नही है। इसका इलाज हो सकता है।

Q10. इरेक्टाइल डिसफंक्शन का क्या इलाज है?

Ans. जब आप डॉक्टर के पास जायेगे तो वह आपका ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल के टेस्ट करेंगे। और अगर जरूरत लगी तो अल्ट्रासाउंड करके यह भी देख सकते है। की आपके लिंग में ब्लड फ्लो सही है या नहीं। और आपसे कई इरेक्टाइल डिसफंक्शन से जुड़े कई और भी सवाल पूछे जा सकते है।

Q11. इरेक्टाइल डिसफंक्शन को नेचुरली कैसे ठीक करे ?

Ans. इसको नेचुरली ठीक करने के लिए आप रोजाना कसरत करे, अपनी डाइट को अच्छा करे, अगर आपका वजन ज्यादा है तो उसे कम करे, रोजाना 7-8 घंटे की नीद ले। जिससे आपका टेस्टेस्ट्रोन लेवल बड़ेगा। और इरेक्टाइल डिसफंक्शन को सही करने में भी यह आदत आपकी मदद करेगी।

Q12. इरेक्टाइल डिसफंक्शन की कोन सी दवाई है ?

Ans. अगर आपकी उम्र ज्यादा है। तो आपके शरीर में इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण शारीरिक हो सकता है। जिसके लिए आप Viagra, Levitra, Cialis इनमे से कोई भी दवाई ले सकते है। इसके इलावा इरेक्टाइल डिसफंक्शन को ठीक करने के लिए injections, surgery भी होती है। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से पूछ सकते है।

फीडबैक

तो हम आशा करते है। आपको यह आर्टिकल से पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर आपका कोई और प्रशन है तो आप उसे नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। आपको उसका उतर जरूर दिया जाएगा। अगर आपके पास कोई सुझाव है। तो आप उसे हम तक इस लिंक पर क्लिक करके पहुंचा सकते है। धन्यवाद।

Rate this post
Share with your freinds
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!